भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेसी गाल बजावोॅ नै, हे बाबू अगरावोॅ नै / सियाराम प्रहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेसी गाल बजावोॅ नै, हे बाबू अगरावोॅ नै

चलो संभलि केॅ घात नै घरोॅ
लुक छिप केॅ आघात नै करोॅ
हम मेहनतकश छी मजूर छी
देखि देखि इतरावोॅ नै

हमरे से ई आन बान छौं
छुच्छे शानों छौं गुमान छौं
दोसरोॅ धन पर तोंय राजा छोॅ
हमरा सें टकरावोॅ नै

सुनोॅ समय केॅ रूख पहचानोॅ
अपन्हैं केॅ सब कुछ नै मानोॅ
मौसम देखोॅ बदलि गेलोॅ छै
अब बेसी बौरावोॅ नै

नै इठलावोॅ नै इतरावोॅ
प्रेम गीत मिलि जुलि केॅ गावोॅ
ई धरती केॅ स्वर्ग बनावोॅ
घृणा द्वेष फैलावोॅ नै