भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बैग / हरमीत विद्यार्थी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे बैग की एक जेब में
तिड़के हुए सपने पड़े हैं
दूसरी में
अधूरी ख़्वाहिशों का पैकेट
युगों पुरानी यादों को
मैंने तहा कर
रखा है इसमें

इस बैग के एक कोने में
कुछ पुराने ख़त पड़े हैं
न भी पड़े होते
तो भी कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता
तहरीर उनकी
शब्द-दर-शब्द याद है मुझे

बहुत सम्भालकर रखता हूँ मैं यह बैग
अपने आपसे भी
फिर भी पता नहीं
क्या घटित होता है मेरे साथ

जब भी सफ़र पर जाता हूँ
यह बैग मेरे
संग-संग चलने लगता है

ढली रात में
किसी कमरे के काले कोने में
अपने आप ही
खुलना शुरु हो जाता है यह बैग
टुकड़ा-टुकड़ा ख़्वाहिश…
शब्द शब्द ख़त…

बहुत तड़के जब सुबह का तारा
मेरे माथे पर देता है दस्तक
मैं इस बैग को
पुन: सहेजना शुरू कर देता हूँ ।