भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बैठ लें कुछ देर आओ / शिव बहादुर सिंह भदौरिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैठ लें
कुछ देर, आओ
झील तट पत्थर-शिला पर

लहर कितना तोड़ती है
लहर कितना जोड़ती है

देख लें
कुछ देर, आओ
पाँव पानी में हिलाकर

मौन कितना तोड़ता है
मौन कितना जोड़ता है

तौल लें
औकात अपनी
दृष्टियों को फिर मिलाकर