भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बैण्ड-बाजे वाले / नरेश अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आधी रात में
बैण्ड-बाजे वाले
लौट रहे हैं
वापस अपने घर

अन्धकार के
पुल को
पार करते

जिसके एक छोर पर
खड़ी है उनकी दुख-भरी ज़िन्दगी
और दूसरे छोर पर
सजी-धजी दुनिया