भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बोलतीं आँखें यक़ीनन देवता सोया न था / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बोलतीं आँखें यक़ीनन देवता सोया न था।
देखता था वो मुझे ऐसे कि मै गोया न था।

हम शरीक़े जंग हैं, बच्चे करेंगे फैसला
हादसे की रात में किसका ख़ुदा खोया न था।

क्या शहर था लोग सारे धो रहे थे आइने
पर किसी ने चेहरा अपना वहाँ धोया न था।

फूल जैसे जिस्म पर बाज़ार का दारोमदार
बोझ ऐसा लड़कियों ने आज तक ढोया न था।

आप पहले लीजिए गीले खिलौनों की जगह
और तब कहिए कि बच्चा आपका रोया न था।