भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बोलोॅ भैया रामे राम हो माय / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बोलोॅ भैया रामे राम हो माय
कोशी सन बेदरदी जग में कोय नय ।
चीन देश में नदी ह्वांगहो
चीनक शोक कहाय ।
भारत के उत्तर बिहार में
निष्ठुर कोशी माय ।।
बोलोॅ भैया....
जहँ उपजै छल कनकजीर
अरू नाजिर पलिया धान ।
ताहि ठाम के नारीनर के
अल्हुआ राखै प्राण ।।
बोलोॅ भैया.......
जतय चलै छल मोटर गाड़ी
पानी ततय अथाह ।
बासडीह के कुण्ड बनौलक
बांसो न लैअछि थाह ।।
बोलोॅ भैया........
धन दौलत सब कुछ हरलक ई
किछु नहि छोड़लक शेष ।
मलेरिया काला बुखार पिलही देलक सन्देश ।।
बोल ोॅ भैया..........
कतह से आनव दवा
कुनायन दूध गाय के, धान ।
कतह से आनव साबूदाना
कोना के बाँचत प्राण ।।
बोलोॅ भैया.......
धैरज राखह मंगरू भैया
मन नहि करक मलान ।
समय पाय तरूवर फरैत अछि
जानत सकल जहान ।।
कोशी बाँधक हित तत्पर छथि
वृद्ध युवक ओ बाल ।
भारत के सेवक समाज
श्रमदानी दल बेहाल ।।
उपद्रवी दुष्टा कोशी के
भेटतय खूब सजाय ।
बाँधि के मुसुक बाँध सब
क्यों मिलि जेल में देत ढुकाय ।।
जहिना नन्दन स्वर्ग लोक में
रखइछ अनुपम वेश ।
ताहू से बढ़ि चढ़ि के हेतौ
तोहर मिथिला देश ।।
बोलोॅ भैया .......