भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बौराया मन / दीप्ति गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यादों के झोंको से बौराया मन
बहलता नहीं यह सम्हलता नहीं
बहुत हमको तड़पाता,तरसाता मन
सूरज में तपता,
ये सागर में तिरता
बदली में छुपता,
सताता ये मन
पावस की रिमझिम में,चीड़ों की सनसन में
भीगा ये खोया सा, सूना सा मन
किताबी खतों को उलटते - पलटते
आँखों में घिरता,
उमड़ता ये मन,
सुहाने से प्यारे से
फूलों के मौसम में
वादियों भटकता,
अकेला ये मन
पतझड़ के मौसम में, पत्तों के ढेरों पे
अटकता, फिसलता,
बेचारा ये मन!
उजड़े घरौन्दे की,
सूनी दीवारों से रह-रह
के टकराता,
आहत ये मन!