भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

भइउं न ब्रज केर मोरा / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

भइउं न ब्रज केर मोरा सखी रे मैं
ओही बिरज मा बड़े-बड़े बिरछा है
बैठों पंख मुरेरा सखी रे मैं
भइउं न ब्रज केर मोरा सखी रे मैं
अरे झरि झरि पंख गिरें धरती मां
बीनै ब्रज केर लोगा सखी रे मैं
भंइउ न ब्रज केर मोरा सखी रे मैं
उन पंखन केर मकुट बनत है
बांधैं जुगुल किशोरा सखी रे
भइउं न ब्रज केर मोरा सखी रे मैं