भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भकजोगनी / कुंदन अमिताभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जूगनू कहऽ
चाहे भकजोगनी
हरदम जुगजुगाबै छै
भक सें भकभकाबै छै
जंगल झाड़ी में
घऽर आरो बाड़ी में
जन-मन टटोलै छै
सम्हरी-सम्हरी बोलै छै
जोहै छऽ बाट
भोर होय केरऽ
छोड़ऽ इ धात
नाश होय केरऽ
जोधा बनी केॅ आबऽ
जोश भरी लाबऽ
जौरऽ होय केॅ आबऽ
गुज-गुज अन्हरिया में
सूरज नया उगाबऽ।