भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भगोड़े के लिए / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्वप्न के
या सत्य के भय-भार से
भाग कर जाता कहाँ संसार से !

रोज़ तुझको सूँघ कर
कुत्ते निकल जाते
क्यों गली में व्यर्थ
बदबू दे रहा पगले ।
मूक भाषा आँख की
महती धरोहर है
किस जनम के तू
स्वयँ से ले रहा बदले ।
भोग सीधे वक़्त के तेवर
मत चुनौती के मुकर स्वीकार से !

नोंच कर इस ज़िस्म को
क्यों हो रहा नँगा
खीझ, लेकिन सीख
अपने आप में रहना ।
ज़िन्दगी से जोड़ कर
खोटी तमन्नाएँ
भावना में और अब
ज़्यादा नहीं बहना ।
ओखली में दे दिया जब सिर
क्या बमकना धनकुटे की मार से !

हैं सृजन के पहरुए
इस वक़्त चुप साधे
है उन्हें चिन्ता नहीं
तेरे गिरे घर की ।
अस्मिता के ध्वँस पर
फिर से खड़े होकर
ठीक-से पहचान
ध्वनि
अपने कटे स्वर की ।
ढो रहा तू जो बड़ा पत्थर
मानते, बेडौल है आकार से !