भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भजन-गिरी गेलां ज्ञान बिन / धीरज पंडित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिरी गेलां ज्ञान बिन अन्हरिया मेॅ
लगी गेलै दाग चुनरिया मेॅ...

पाँच के रऽ देह पच्चीस के रऽ साड़ी
फँसी गेलै केश दुअरिया मेॅ...

दाग करम के चहूँ दिश गमकै
मची गेलै शोर नगरिया मेॅ...

जैसें सूर दीया संग जागै
या सूतल छी अटरिया मेॅ...

‘धीरज’ ज्ञान बिना जग सूना
पावी ले-हो-गुरु फुलबड़िया मेॅ...