भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भन्न पनि पाइँदैन / मनु ब्राजाकी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बिर्सिएछु भन्न पनि पाइँदैन ।
यस्तो जाबो माया अब लाइँदैन ।

भोकसित साटिएको जुठोपुरा,
अबदेखि मीठो मानी खाइँदैन ।

बिदाइमा रमाउन थालेको छु,
भेट हुँदा स्वागतगान गाइँदैन।

यौटा कुरा भनुँभन्दा जीवन बित्यो,
त्यही बित्या जीवन फेरि चाहिँदैन।

एकचोटि जन्मेपछि पुगिहाल्यो,
बाराम्बार मर्न अब आइँदैन