भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भरती हो लो रै बाहर खड़े रंगरूट / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भरती हो लो रै बाहर खड़े रंगरूट
अड़ै मिलैं ना टूटी जूती ओड़े मिलैं फुलबूट
भरती हो लो रै बाहर खड़े रंगरूट
अड़ै मिलै ना पाट्टे लीतर ओड़े मिलैंगे सूट
भरती हो लो रै बाहर खड़े रंगरूट