भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भरोसा / सुधीर कुमार 'प्रोग्रामर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये जी!
तहूं करी न लेॅ अंगिका सेॅ पी.जी.।

लोगऽ केॅ देखै छीयै-
भौरे-भोर लहाय कं,
माथऽ मेॅ तेल बहाय केॅ,
फूलपैन्ट झाड़ी केॅ,
बालऽ मेॅ कंधी मारी केॅ,
हरदम रहै छै बीजी।
ये जी!
तहूं करी न लेॅ अंगिका सेॅ पी.जी.।

सुनै छीयै-होतै भारी बहाली,
सुखलऽ ठोरऽ पेॅ, अैतै फेरू लाली,
गल्ला मेॅ हार लबऽ, कानऽ मेॅ बाली,
साड़ी सेॅ भरी लेबऽ, बक्सा छै खाली,
फेरू एगऽ कार लेबऽ, लिखी देबै निजी।
ये जी!
तहूं करी न लेॅ अंगिका सेॅ पी.जी.।