भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भरोसे की नींद / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोशनदान के उस पार
दिखीं दो नन्हीं बाँहें

दो हरी कोंपलें
उस तरफ दीवार पर
उग रही थीं

एक बच्चा पीपल
पचास बरस पुरानी भीत को
फोड़ कर उठ खड़ा था

दुनिया के तमाम बच्चों के लिए
मेरे हाथ आशीर्वाद की मुद्रा में
उठे हुए थे

मैं आश्वस्त था
कि दुनिया बची रहेगी

जियो मेरे बच्चो,
उगो तो ऐसे
कि जैसे दीवार पर
उगता है पीपल
ताकि हम भरोसे की नींद सो सकें ।