भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भाई- मऽते कसो आऊ बहिन लेनऽ खऽ ओ / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

भाई- मऽते कसो आऊ बहिन लेनऽ खऽ ओ, मऽराऽ घर धान बुवाय
बहन- धान बोहे तोरो बरसाल्या कि बहिनी लेनऽ खऽ आव
बहन- धान नन्धे तोरो बरसाल्या कि बहनी लेनऽ खऽ आव
भाई- मऽ तोखऽ कसो लेनऽ खऽ आऊ, बहनी मऽरोऽ घरऽ छवाय
बहन- घर छवाहे तोरो बरसाल्या कि बहनी लेनऽ खऽ आव
भाई- मऽ कसो लेनऽ ख आऊ बहिन अंग्रेजी टोपी भींग जाय