भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भागा भालू / प्रयाग शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भालू की माँ बोली-कालू
आ तुझको नहला दूँ,
लगा-लगाकर साबुन तेरा
सारा मैल छुड़ा दूँ!
भागा भालू ज्यों ही माँ ने
डाला ठंडा पानी!
लगा चीखने जोर-जोर से
याद आ गई नानी!