भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भाग्यहीन दीन दुखिया के सेविका छोॅ तोंहीं / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाग्यहीन दीन दुखिया के सेविका छोॅ तोंहीं
तोंही भगवन्त के छोॅ उर गृह स्वामिनी।
जन-गण-मन के निनाद नाद तोंही आरो
तोंही शिवभाव के भी छहोॅ अनुगामिनी।
रागिनी भी तोंही, तोंही प्रेम याग यागिनी छोॅ
कृश मधु भावना के लोक के विहारिणी।
तोंही छौ विरागिनी आ तोंही अनुरागिनी भी
त्यागिनी भी तोंही-तोंही विश्व-क्षेमकारिणी।