भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भादोॅ के रात / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आबी गेलै भादोॅ के रतिया हे सखि जुलमी अंधिरिया
छर-छर चुऐ छै ओसरा के आरियानी
ठेहनोॅ भर भरलोॅ छै ऐंगना में पानी
के सुनतै दुखिया के बतिया हे सखी जुलमी अंधिरिया
पापी पपिहरा के बोलिया जराय छै
मेघवा के गड़-गड़ सें जियरा डराय छै
धड़-धड़-धड़ धड़कै छै छतिया हे सखि जुलमी अंधिरिया
बलंमू बेदरदी जे भेलै परदेसिया
भरलोॅ जवानी सखि भै गेल मटिया
मस-मस-मस मसकै छै अंगिया हे सखि जुलमी अंधिरिया ।