भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भालू का रसगुल्ला / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भालू चाचा मचा रहे थे,
सुबह सुबह से हल्ला|
शेर चुराकर भाग गया था,
उनका एक रसगुल्ला|

सभी जानवर भाग दौड़कर,
पकड़ शेर को लाये|
मुश्किल से रसगुल्ला,
भालूजी को दिलवा पाये|

हाथ जोड़कर तभी शेर ने,
सबसे मांगी माफी|
”कभी न अब आगे से होगी,
हमसे ये गुस्ताखी|”

”चोरी करना ठीक‌ नहीं है,
सुनलो मेरे भाई|”
शेरसिंह को सभी जानवरों,
 ने फटकार लगाई|