भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भाव-ताव / रूपसिंह राजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब्जी मण्डी मैं,
ईयां ई बूझ बैठयो,
टमाटरां रो मोल,
सेठ बोल्यो - ताजा, बढिया पांच रीपिया,
सड़या, गळया अर बासी,
दस रीपिया किलो गा तोल।
मैं कैयो - अै सड़या टमाटर,
कठै जावैंगा?
बो बोल्यो,
आज म्हारै शहर मैं,
कवि सम्मेलन है,
अै बठै काम आवैंगा।