भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भींगना / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज एक बच्चे ने भगवान को
भींगने से बचाया
और उनके नाम पर कमाया पाँच रुपया
अपनी जेब में छुपाया

अपनी फटी बनियान के अंदर
डाल ली भगवान की फोटो

और तेज बारिश में
भीगता रहा नन्हां फरिश्ता
भगवान उसकी छाती में
महफूज सिसकता रहा

आज दोनों ही भीगे
किसी ने किसी को नही बचाया