भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

भीम हरकतो आयो रे राजा / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात


   भीम हरकतो आयो रे राजा
   गोकुल से लायो रे राजा....
   भीम हरकतो आयो रे राजा

(१) पाँचई पांडव बैठीयाँ महेल म,
    बीच म कोतमा माय
    पहला सगून तो हुआ रे मुझको
    यदुपति दर्शन पायो रे राजा...
    भीम...

(२) बहुत प्रेम से पुछण लाग्यो,
    कैसे हो भीम भाई
    जात सी तो भोजन पाया
    मोये दियो विश्वास रे राजा...
    भीम...

(३) रल्ली मुझसे पुछण लाग्यो,
    अली की रे विपता बताई
    एक वचन मुझसे ऐसो सुणायो
    बारह बरस वन जाओ रे राजा...
    भीम...

(४) हतनापुर से मालुम हुई,
    भीम नायळ दई आया
    दास धनजी को स्वामी सावळीयो
    राखो लाज रघुराई रे राजा...
    भीम...