भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भुलियल बंदो / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जोॻी अड़नि जी थींदसि जोॻयाणी
महबूबड़नि जी मां थींदसि जोॻयाणी
सिक साईंअ जीथी मूंखे सताए
दिलि में दर्दनि जा थी दूंहां दुखाए
खयूं थी निहारियां मां नेण ‘निमाणी’

जोॻी त जीउ में जादू हणी विया
से साण दिलड़ी त मुंहिंजी खणी विया
विरह वेराॻ में वतां थी वेॻाणी

पल पल मां दर्शन जी आहियां प्यासी
हर दम आहियां ‘निमाणी’ उन्हनि दर जी दासी
जोॻियुनि जे दर ते मां आहियां विकाणी
महबूबड़नि जे मां थींदसि जोॻयाणी