भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूखे पेट भजन होता है / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूखे पेट भजन होता है
अपना-अपना मन होता है

होता कुछ है, कुछ दिखलाता
ऐसा भी दरपन होता है

पैसे वाले में दिल मुश्किल
दिलवाला निर्धन होता है

सुलझे-सुलझे जीवन में भी
उलझा-उलझा मन होता है

हर परीना घर में अब भी
सबका इक आँगन होता है