भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूख री जातरा / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पापी मन
भोळै मन भेळै
करै जातरा
भूख रो भरमायो।

आदम भूख
पंखेरुआं नै
बस कर टोरै
थेलै रा दाणा
ठाह नी कद
हाथ आणा
पण
आस बगै
पसरी सड़कां।

भूख री जातरा
आपरै गेलां
बगै सरड़ाट
कदै ई इण पेट
कदै ई उण पेट।