भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूरे की माता बोलती सुण भूरा मेरा / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माना की माता बोलती मेरा माना आइये
बेटा बादसाह के दलां में तू सन्मुख जाइये
तेग झमकती देख के भय मत ना खाइये
लोथा ऊपर लोथ पड़ै मत एडी ठाइये
रतनसिंह के नाम पर सम्मुख मर जाइये
जै तूं आवै भाज के मुंह मत दिखलाइये
अच्छा सा जोगी देख कै जा कान पड़ाइये
ठेकरा ले लीये हाथ में मांगिये अर खाइये
और घणी रे माना के कहूं
मां के दूध कै मत लाणा लाइये