भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूले भूले भौंर बन भाँवरे भरैंगे चहूँ / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूले भूले भौंर बन भाँवरे भरैंगे चहुँ,
                  फूलि फूलि किंसुक जके से रही जायहैं.
द्विजदेव की सौं वह कूजन बिसारि कूर,
                  कोकिल कलंकी ठौर ठौर पछितायहैं.
आवत बसंत के न ऐहैं जो पै स्याम तौ पै,
                  बावरी ! बलाय सों,हमारेऊ उपायहैं.
पीहैं पहिलेई तें हलाहल मँगाय या,
                  कलानिधि की एकौ कला चलन न पायहैं.