भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूषन भूषित दूषन हीन प्रवीन / तोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूषन भूषित दूषन हीन प्रवीन महारस मैं छबि छाई.
पूरी अनेक पदारथ तें जेहि में परमार्थ स्वारथ पाई.
औ उकतें मुकतै उल्ही कवि तोष अनोषभरी चतुराई.
होत सबै सुख की जनिता बनि आवति जौं बनिता कविताई.