भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोकाएको मन / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मनपर्‍यो
केवल मनपर्‍यो ।

केके मनपर्‍यो
कहाँकहाँ मनपर्‍यो
बस् मनपर्‍यो ।

अहो !
यो के मनपर्‍यो
उफ् !
कस्तो लाचार यो मनपराइ
कस्तो विवश यो मनपराइ ।

मनपर्‍यो
बस् मनपर्‍यो !