भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोर के पंछी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर के पंछी
उड़-उड़ आए ।

ओ मेरी माई !
ज़रा छत पर आना
मुट्ठी में भर कर
दाने लाना
बैठे हैं सब
तेरी आस लगाए ।

दाने चुगेंगे
फिर पानी पिएँगे
देंगे दुआएँ, माई !
जब तक जिएँगे ।
इनकी दुआ न कभी
खाली जाए ।
भोर के पंछी
उड़-उड़ आए ।