भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोला शंकर-1 / कुमार सुरेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नन्हा शिशु
गेहॅुँए रंग
साधारण नाक नक्श वाली
युवा माँ
के साथ
आया था
पिछले साल
शहर में

माँ, दिन भर
ईंट, गारा, पत्थर
ढोती थी

शिशु
पेड़ और खम्बे से बँधे
पुराने कपडे़ के झूले
में लेटा

धूप और धूल खाता था।