भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोलू / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोलू से पूछा मैंने-
‘स्‍कूल नहीं क्‍यों जाते ?’
भोलू बोला- ‘हम ढाबे पर
करते काम, कमाते।’
भोलू से पूछा मैंने-
‘क्‍या अनपढ़ बने रहोगे ?’
भोलू बोला- ‘अच्‍छा, पढ़ने की
तनख्‍वाह क्‍या दोगे ?’