भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भ्रम / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शंकर को ढूंढने चले
                    हनुमान मिल गए;
क्या-क्या बदल के रूप-
                    अनजान मिल गए.

एक दूसरे से पहले
                      दर्शन की होड़ में;
अनगिनत लोग रौंदते-
                      इन्सान मिल गए.

माथे लगा के टीका
                         भक्तों की भीड़ में;
भक्ति की शिक्षा देते-
                          शैतान मिल गए.

अपने ही अंतर्मन तक
                     जिसने कभी भी देखा;
दूर दिल में हँसते हुए-
                            नादान मिल गए.
 
तोड़ा था पुजारी ने
                      मन्दिर के भरम को;
जब सिक्के लिए हाथ में-
                         बेईमान मिल गए.

कुछ रिसते झोंपड़ों में
                        जब झाँक कर देखा;
मानुषी भेस में स्वयं-
                           भगवान मिल गए.

अपने को समझतें हैं
                        जो ईश्वर से बड़कर;
संसार को भी कैसे-कैसे-
                            विद्वान् मिल गए.

किस पर करे विश्वास
                          आशंकित सी सुधा;
देवता के रूप में जब-
                              हैवान मिल गए.