भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंज़िलें ओझल हुईं पर सीढ़ियाँ पकड़े रहे / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मंज़िलें ओझल हुईं पर सीढ़ियाँ पकड़े रहे ।
ज़िन्दगी में चाहतों की उँगलियाँ पकड़े रहे ।

मौसमे गुल था बगीचा था वहाँ सब लोग थे,
फूल चुनकर ले गए हम डालियाँ पकड़े रहे ।

फ़िक्र जिनकी घर की दीवारों के भीतर क़ैद थी,
घर गृहस्थी माँ-पिता घरवालियाँ पकड़े रहे ।

ये समझदारों की दुनिया का बहुत उम्दा उसूल,
कामयाबी की सुनहरी तितलियाँ पकड़े रहे ।

शख़्स ऐसे भी जहाँ में देखने मिल जाएँगे,
जो हमेशा दूसरों की ग़लतियां पकड़े रहे ।

रख दिया सिंहासनों पर और उतारी आरती,
ना पढ़ा समझा न माना पोथियाँ पकड़े रहे ।

भूख ने वो सब किया जो कुछ भी कर सकती थी वो,
लोग भूखे पेट अपनी पसलियाँ पकड़े रहे ।