भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंज़िल न दे चराग़ न दे हौसला तो दे / राना सहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मंज़िल न दे चराग़ न दे हौसला तो दे
तिनके का ही सही तू मगर आसरा तो दे

मैं ने ये कब कहा के मेरे हक़ में हो जवाब
लेकिन ख़ामोश क्यूँ है तू कोई फ़ैसला तो दे

बरसों मैं तेरे नाम पे खाता रहा फ़रेब
मेरे ख़ुदा कहाँ है तू अपना पता तो दे

बेशक मेरे नसीब पे रख अपना इख़्तियार
लेकिन मेरे नसीब में क्या है बता तो दे