भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मकई के खेत में-1 / निलय उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादल
कुलाँचें भर रहे हैं
आकाश का रंग काला हो रहा है
लहराता समुद्र
आ रहा है खेतों में

हाथी के बच्चों की तरह
सूँड उठाए खड़े हैं
स्वागत में
गूँफे खोलकर
मकई के नवजात पौधे