भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मकड़ी ने क्या पाया / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मकड़ी ने कितनी मुश्किल से
बुने हुए थे जाले।
मम्मी ने लंबी झाड़ू से
सफाचट्ट कर डाले।
मम्मी खुश है, झाडू खुश है,
मकड़ी ने क्या पाया?
बना-बनाया घर अपना
झाडू के हाथ गँवाया।