भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मकसद / सपना मांगलिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छूट गिरफ्त बादलों की सूरज
बैचैन रौशनी फैलाने को
बदल भी तो करते हैं श्रम
रिमझिम बूँदें बरसाने को
धरा आतुर सीने पर अपने
फसल हरी उगाने को
नभ टंकरित करता है ध्वनि
ऊर्जा देती हमको अग्नि
जल से सबको प्राप्त जीवन
करे प्राणों का संचार पवन
इंसान ,जानवर, पेड़ -पौधे सारे
गृह –उपग्रह, चाँद और तारे
करें कर्म निरंतर ,निर्धारित हद
जुटे रहते करने को पूरा
अपने होने का मकसद