भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मचलते हैं तेज धारे किस तरह / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मचलते हैं तेज धारे किस तरह
टूटते जाते किनारे किस तरह
हदें दिल की डूबती जाएं सभी
हो रहे हम बेसहारे किस तरह