भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मचिया बइठल तुहूँ सासु, त सुनहऽ बचन मोरा हे / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मचिया बइठल तुहूँ सासु, त सुनहऽ बचन मोरा हे।
सासु, सपन देखलूँ अजगूत,[1] बालक एक सुन्नर[2] हे॥1॥
चुप रहुँ चुप रहुँ, पुतहू,[3] त सुनहऽ बचन मोरा हे।
पुतहू सुनि पइँहें गँमवा[4] के लोग करतइ उपहाँस तोरो हे॥2॥
आज हकइ सोने के रात, बबुआ एक जलम लेता हे।
पुतहू, आज चानी केरा रात, होरिलवा जलम लेता हे॥3॥
घड़ी रात बीतल पहर रात, अउरी अधिए[5] रात हे।
ललना, जलम लिहल नंदलाल, महल उठे सोहर हे॥4॥
सासु मोरा उठलन गवइत, ननद बजइवत हे।
ललना, सामीजी त मालिन फुलवरिया, मालिन सँग सारी[6] खेलथ हे॥5॥
ऐहो एहो राजा दुलरइता राजा, सुनहऽ बचन मोरा हे।
राजा, तोहरा के भेलो नंदलाल, महल उठे सोहर हे॥6॥
पसवा[7] त गिरलइ बेल तर, कउरिया[8] बबूर तर हे।
राजा, चलि भेलन अपन महलिया, महल उठे सोहर हे॥7॥
कोठे चढ़ि देखथिन दुलरइतिन, झर रे झरोखे लगी हे।
चेरिया, आज रे उजाड़ी देहीं बगिया, त फूल छितराइ[9] देहीं हे॥8॥
महल में जुमलइ[10] मलिनियाँ, त कर जोड़ी खाड़ा भेलइ हे।
रानी, काहे लागी उजड़हइ बगिया, त काहे लागी फूल छितरहइ हे॥9॥
काहे लागी बाँधहहु मलिया, त काहे लागी लोर-झोर[11] हे।
रानी, बरजहु अपन कोठीवाल,[12] बगिया मत सून[13] करूँ हे॥10॥
मैं तोरा पूछूँ मलिनियाँ, त सुनहऽ बचन मोरा गे।
मालिन, कइसे कइसे कयलें बिलास, मोरा के समुझाय देंही गे॥11॥
रसे-रसे[14] बेनियाँ[15] डोलौलूँ, आउ[16] फूल छितराउलूँ हे।
रानी, भउँरे[17] रूपे राजा उहाँ[18] गेलन, सभे रस चूसि लेलन हे॥12॥

शब्दार्थ
  1. अजीब
  2. सुन्दर
  3. पतोहू, बधू
  4. गाँव
  5. आधी
  6. जुआसार, जुआ
  7. चौसर के खेलवाला पासा
  8. कौड़ी
  9. तितर-बितर
  10. पहुँच गई
  11. आँसू और झगड़ा
  12. कोठी की रक्षा करने वाले प्यादे
  13. सूना, उजाड़ना
  14. धीरे-धीरे
  15. छोटा पंखा
  16. और
  17. भ्रमर
  18. उस जगह