भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मचिया बइठल तू अम्मा / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मचिया बइठल तू अम्मा तो सुनहूँ बचन मोरा हे।
ललना हम लिपबई भाभी के सउरिया कंगनबाँ लेई लेबइन हे।

सउरी पइसल तुहूँ बहुआ त सुनहूँ बचन मोरा हे।
ललना दई देहूँ धिया के कंगनवा, धिया देस दूर बसे हे।

कंगनवे कारन पिया देश गेलन अउरो विदेस गेलन हे।
ललना न देबइन ननदी कंगनवाँ, ननदिय देस-दूर बसे हे।

चुप रह चुप रह बहिनी, त सुनहूँ बचन मोरा हे।
हम करबो दूसर बिआह कंगनवाँ हम दिलाई देबो हे।

इतना बचनियाँ धनियाँ सुनलन, सुनहूँ न पौलन हे।
ललना झटसिन फेंकले कंगनवाँ अंगनवाँ बीच हे।

ललना ल न छिनरियो कंगनवाँ सवतिया बनके रहहूँ न हे।