भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मछली जल में प्यासी है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मछली जल में प्यासी है।
क्या यह बात जरा सी है?

जिस बन्दे के रीढ़ नहीं,
कीमत अच्छी-खासी है।।

भूख परखती कब रोटी,
ताजी है या बासी है।।

अब तक रहा प्रतीक्षा में,
पर अब सख्त उदासी है।।

जीत लिया जिसने खुद को,
‘मृदुल’ वही संन्यासी है।।