भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मति करऽ राम वियोग / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मति करऽ राम वियोग सिया हो, मति करऽ राम वियोग।
सुतल रहनी कंचन भवन में, सपना देखली अनमोल।
सिया हो मति करऽ राम वियोग।
अमृत फल के बाग उजरले राम लखन के दूत।
सिया हो मति करऽ राम वियोग।
पूरी अयोध्या से दोउ बालक अइले, एक सांवर एक गोर।
सिया हो मति करऽ राम वियोग।
बाग उजरले लंक जरवले, दिहले समुंदर बोर।
सिया हो मति करऽ राम वियोग।