भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मति मारो दृगन की चोट / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: चन्द्रसखी

मति मारो दृगन की चोट रसिया, होरी में मेरे लगि जायगी॥
मैं तो नारि बिराने घर की, तुम जो भरे बड़े खोट।
अबकी बार बचाय गई हूँ, घूँघट पट की ओट॥ मति.
रसिक गोविन्द वहीं जाय खेलौ, जहाँ तिहारी जोट।
‘चन्द्रसखी’ भज बालकृष्ण छबि, हरि चरनन की ओट