भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मत कर मोसे जोर-जोरी पिया / सपना मांगलिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत कर मोसे जोर-जोरी पिया
आयो फाग महीना होरी खेल पिया
रंग दे मोहे अपने ही रंग में
बिजुरी सी कोंधे रे अंग-अंग में
भर प्रेम को रंग पिचकारी
भिगो दे चनिया चोली पिया
आयो फाग महिना होरी खेल पिया
घन सो कारो घनशयाम पिया
है चाँद चकोरी सी जोड़ी पिया
सुन बंशी मैं झूम - झूम झूमूं
बाबरिया बन इत -उत घूमूं
तू मेरो प्राण मैं शरीर पिया
आयो फाग महीना होरी खेल पिया
कैसी नेह डोर तूने बांधे रे पिया
मन नाचे मयूरा ,धक-धक करे जिया
मृग से तेरे नैना तिरछे तिरछे
डारें जादू अपनी ओर खींचें
मैं दौड़ी औं अँखियाँ मींचे पिया
आयो फाग महीना होरी खेल पिया