भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मत होना उदास / बद्रीनारायण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ जून ने बुना
कुछ जुलाई ने

नदी ने थोड़ा साथ दिया

थोड़ा पहाड़ ने

बुनने में रस्सी मूँज की।


प्रभु की प्रभुताई बाँधी जाएगी

यम की चतुराई

हाथी का बल

सोने-चाँदी का छल बाँधा जाएगा

बाँधा जाएगा

विषधर का विष


कुछ पाप बाँधा जाएगा

कुछ झूठ बाँधा जाएगा


रीति तुम चुप रहना

नीति मत होना उदास।