भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मदाह / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वरिजि वाली फ़खु़र साणु, सतगुर साणी थियो मूं साणु
शर्मु रखिजि तूं इज़्ज़त सां, मुहत ॾियारिजि मूंखे मानु
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

लालनि में आहीं तूं लाल, साइल तुंहिंजा थिया परमाल।
बेकस आहियां बद अइमाल, हालु ॾिसी करि मूं सां भाल।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

बेकस बन्दो आहियां नादान, लाल लॻसि लड़ि तुंहिंजे साणु
बेघर आहियां बेसामान, तुर्तु ॾियारिजि मूंखे दानु
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

दर्द दफ़इ करि सवली सीर, दामनु तुंहिंजे वरतमि वीर।
कसो करीं मूं सभु तक्सीर, खै़र खु़शियूं ॾे दिल खे धीर।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

ॿाझ करे तूं कार्ज संवारि, लुत्फ़ करीं तू ई वहिंवार।
ग़ाफ़िल आहियां आउं गंवार, लाज रखीं तूं साजन सारि।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

भीड़ पड़ी मंू सांवल शाह, शाम शरन तूं आहीं शाह
तो बिन मुंहिंजी कान्हे वाह, महिर मंझूं करि मूं ते निगाह।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

साइलु तुंहिंजो शाहु गदा, तो दरि आहे कमी न का।
घुरिजाउनि जा काज कया, दुखियनि जा तो दुख लाथा।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

ताकत तन मूं तर्क कयो, दर्द आलम में पेचु पियो।
तो सरीखो न ॿियो, दुआ मङां थी दान ॾियो।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

दाइम तो दरि आहियां दरबानु, हरदम आहियां कुर्बान।
वहम विञाइजि सभु अरमान, कीन कढाइजि कंहिंजी काण।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

ज़ोद दवा करि ज़ालिम खे, शाग़िल करीं हिन कातिल खे।
दूर धिके करि दुश्मन खे, मोम सिघो करि संगदिल खे।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

ज़ाहिर बातन तूं सुल्तान, सिर ते तुंहिंजे आउं कु़र्बान।
जगमग जोति जॻमॻाए, लाल लॻाइजि मुंहिंजो ॿाण।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

असां संहिंजो परसु पुॼाए, अर्जु़ करियां सो अर्जु़ अघाए।
लहरूं लोॾ लालु लंघाए, फ़ज़ुल करे मूं अवस बधाए।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

नाहि वसीलो को मुंहिंजो, तोह तॻां थो आउं तुंहिंजो।
अमर आसाऊं आउ तुंहिंजूं, माॻु करि मूं मूढ़ीअ जो।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

तालिब ताबह या वर जो, साइल आहियां तो सरवर जो।
रिज़िकु रवां करि अहमक़ जो, लुत्फु़ मंगां तो दावर जो।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

ऐब कयमि से ढकिजि मूं ढोल, मेटि मदायूं ना कजि फोलु
सभुको तुंहिंजो अॻिरो ॿोल, रफ़ा दफ़ा करि दिल जो होलु
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

दासु प्यासी दरसन जो, ध्यानु धराइजि चरननि जो।
परदो रखिजि मूं निर्धन जो, जिगिरु जलाइजि दुश्मन जो।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥

संत मिलाइजि संत सुजान, तुर्त ॾियारिज ॾातियूं ॾाण।
तूं ॾे मूंखे नाम जो दानु, मुक्त कजांइ मुंहिंजी जानि।
दाता दूलह आउ दरमियान, मुश्किल मुंहिंजी कर आसान॥