भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मनखे मर गे / लाला जगदलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दाना-दाना बर लुलुवावत मनखे मर गे
खीर-सोंहारी खावत-खावत मनखे मर गे।
का ला कहिबे, का ला सुनबे, का ला गुनबे
पर धन ला बइठे पगुरावत मनखे मर गे।
पीवत-खावत अउ मेछरावत मनखे मर गे
धारन रोवत अउर करलावत मनखे मर गे।
नइये कहूँ गरिबहा के कोनो मनराखन
गुन-हगरा मन के गुन गावत मनखे मर गे।