भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन ई मरै / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन री माया
जाणै मन
मन नै जाणै कुण?

निजरां रा
भरमाया पग
टोरै-थामै
मन रा पग।

पग हुवै नीं
हुवै पांगळौ मन
पण भाजै
दड़ाछंट।